Celebration Of Life

Today is Ashok Mamu’s birthday. We lost him this May amidst the scathing wave of COVID-19.

Today, the family celebrates his life. On his birthday.

Ashok Mamu was a constant in my life. Since I gained consciousness. He was there. I feel so even though we hardly spoke with each other. An inexplicable bond. Vibes. He was someone who was always there. Really there. The kind of presence that gives one the comfort one needs. Like the peace of mind to know someone’s there. To take care. Like you have nothing to worry about. This poem is a homage to the divine soul, Ashok Mamu. Happy Birthday.

**अशोक मामू : श्रद्धांजलि *
*******ॐ शांति******

कोई ऐसा मौका न था जब आप नहीं थे,
जब जिसको जहाँ ज़रूरत थी आप वही थे
आपके बिना जीना तो आता ही नहीं,
भगवान से ये सवाल है इसमें क्या है सही?

सय्यम, विश्वास, स्पष्टता,संस्कार,
हसमुख, अनुशासनी व उदार।
एक शब्द में कहुँ तो आपसे सीखा है-
सही माईने में प्यार।

नियति (my sweet little sis) ने मुझे एकअच्छी बात बताई है – की लोग तब तक ज़िंदा रहते हैं, जब तक उनको हम अपनी यादों में अपनी बातों में और अपने कामो में जीवित रखें|

एक बार ज़िन्दगी ने बड़ी शान से,
पुछा सवाल मृत्यु से –
ऐसा क्यों के सब मुझे करते प्यार,
और तेरा तिरस्कार ?
तो मृत्यु ने मुस्कुरा कर जवाब दिया:
क्युकी तुम एक मीठा झूठ हो प्यारा,
और में एक कड़वा सच तुम्हारा।

तो मृत्यु जीवन का अंत नहीं शुरुआत है,
आपके बिना जीना सीखने की बात है,
आपकी यादों, सिद्धांतों, दिखाया हुआ मार्ग, सिखाये हुए नियमों का साथ है,
भले ही ये लग रही अँधेरी रात है-
पर ये भी एक नयी परभात है।

******ॐ शांति******

Share a comment here..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *